5 ट्रिलियन इकोनॉमी कुछ घंटो में पहुंचा देंगी गोलियां

राजनीतिक हास्य व्यंग अनुराग ठाकुर

व्यंग्य,झंडेवालान ,नई दिल्ली:आम बजट से 3 दिन पहले अनुराग ठाकुर ने 5 ट्रिलियन इकोनॉमी बनाने के लिए अपने सीनियर मंत्री को गोली वाली देवीय सलाह दे डाली है।उनका कहना है की देश में जितने भी मन से मरीज किस्म के गद्दार लोग है उनको अगर आयुर्वेद या होमियोपैथ वाली गोली ‘मारी’ जाए तो भारत की 5 ट्रिलियन इकोनॉमी कुछ घंटो में पहुंच जाएगी.

प्रधानमंत्री ने इस मास्टरस्ट्रोक आईडिया के ऊपर विचार करने के लिए एक उच्च स्तरीय कमिटी का गठन कर दिया है। प्रधानमंत्री पहले से ही ‘आयुष्मान भारत’ की योजना के तहत आयुर्वेदिक गोलियों को घर घर में ठुंसवाने की मुहीम छेड़ी हुई थी.

इन आयुर्वेदि गोलियों को मारने की महाविधि का प्रचार प्रसार आने वाले 10 दिनों में और भी तेज़ रहने की उम्मीद है।

व्यंग्य लेख

5 trillion economy, 5 ट्रिलियन इकोनॉमी कटाक्ष, 5 ट्रिलियन इकोनॉमी व्यंग, अनुराग ठाकुर व्यंग, अनुराग ठाकुर हास्य, अभिजीत बनर्जी जोक, चौकीदार पर व्यंग, तीखे व्यंग, प्रधानमंत्री जोक, प्रधानमंत्री व्यंग, मीडिया पर व्यंग्य,funny articles,
short hindi articles,
hindi lekh,
article in hindi,
best hindi articles,
articles in hindi,
hindi funny kahani,
okok comedy,
good articles in hindi,
latest articles in hindi,
love articles in hindi,
hindi satire,
artical in hindi,
hindi lekhini,
hindi artical,
article on hindi,
best articles in hindi,
heidi cartoon images,
jokes on indian politicians in hindi,
artikal in hindi,
bundelkhandi jokes in hindi,
any article in hindi,
aalekh in hindi,
hindi jock image,
best article in hindi,
indian political cartoons in hindi,
hindi lekha,
articles on life in hindi,
हिंदी ब्लॉग सूची,
व्यंग्य लेख,
5 ट्रिलियन इकोनॉमी वाली गोली

दिल्ली चुनाव के दौरान ये गोलियां मुँह में मारने से अनेक प्रकार के मानसिक प्रदुषण दूर हो सकते है ।

डॉ ठाकुर की माने तो ठाय ठाय जैसे महाउपयोगी आवाज़ सुनाने के साथ साथ इन गोलियों का ग्रहण करने से मरीज को तुरंत आराम मिलता है।

WHO के अनुसार चुनाव में राजनितिक मरीजों को ऐसी गोलियां तुरंत असर करती हैं।

सूत्रों से पता चला है की नासा के साइंटिस्ट ने अनुराग ठाकुर को यह सुचना चुपके से दे दी थी. नासा के वैज्ञानिकों ने मंगल ग्रह में पाए गए कुछ जीवाणुओं को ये गोलियां मारी थी और वहां पे वो जीवाणु मिली सेकण्ड्स में तंदरूस्त मुस्टंडे देशभक्त बन गए.’मंगल ,मंगल ,मंगल हो’ वाला हिट सांग की गूंज पुरे मंगल ग्रह में फिर से सुनाई देने लगी।

नोबेल विजेता अभिजीत बनर्जी ने इस मांगलिक सुझाव को देश के लिए कलयुग का वरदान माना है। भारत की जीडीपी अब हर दिन एक परसेंट से बढ़ने की उम्मीद है।

उनकी बात अगर सही होती है तो भविस्य में देश में आर्थिक प्रगति को रोकने के लिए अमेरिका जैसे कमजोर देशो की मदद करनी पड़ सकती है।

अथाह प्रगति से रामराज्य कलयुग में ही आने की सम्भावना बताई जा रही है .कुछ घंटो में 5 ट्रिलियन इकोनॉमी का लक्ष्य पूरा होने के बाद भारत में लोगो को इन गोलियों के साथ चाँद भेजने की बात चल रही है

Leave a Reply

%d bloggers like this: